Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

गले में खराश और बलगम के उपाय

गले में खराश, गले में खराश और बलगम के उपाय, गले में खराश की टेबलेट, गले में खराश और बलगम की दवा, गले में खराश और बलगम आना, गले में खराश के लक्षण, गले में खराश कि देसी दवा, गले में खराश और बलगम, गले में दर्द की टेबलेट, गले में चुभन के कारण, गले में घुटन के कारण, गले में गैस बनना, गले में टीबी के लक्षण,

सर्दी, बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ कोरोना वायरस के सामान्य लक्षण हैं। हालांकि, बुखार, ठंड लगना या गले में खराश जैसे लक्षण अक्सर साल में दो से तीन बार होते हैं। इसलिए अगर आपको वास्तव में सर्दी या गले में खराश है तो तुरंत घबराएं नहीं। कुछ घरेलू नुस्खों से गला ठीक किया जा सकता है।

खराश के कुछ घरेलु उपाय

बड़ी मात्रा में गर्म तरल पदार्थ, जैसे शहद की चाय, तुलसी-लौंग का अर्क, गर्म सूप का सेवन वास्तव में गले की खराश से राहत दिला सकता है। अदरक, दालचीनी, लौंग, मुलेठी का मिश्रण एक गिलास में 10 मिनट तक और दिन में 3 बार लेने से तुरंत आराम मिलता है।

गले में खराश के लक्षण | खराश की कुछ मुख्य वजाये

एसिडिटी, शराब का नियमित सेवन, फ्लू, गले में संक्रमण, टॉन्सिल वास्तव में गले में खराश पैदा कर सकता है। वायरल संक्रमण गले में खराश का सबसे आम कारण है। लक्षणों में खांसी, नाक में खुजली, दस्त और स्वर बैठना शामिल हैं।पेट का एसिड अक्सर अन्नप्रणाली तक पहुंचता है।

यह वास्तव में तब शुरू होता है जब एसिड गले में चला जाता है। वास्तव में कुछ सरल घरेलू उपचारों से गर्दन को कम किया जा सकता है। लहसुन की एक कली को गालों और दांतों के बीच रखकर उसका रस चॉकलेट की तरह सोखने से खांसी और खुजली से राहत मिल सकती है।

बुखार, निगलने में कठिनाई, सांस लेने में कठिनाई, खाँसी, भारी शोर और यदि यह सब एक सप्ताह से अधिक समय तक रहता है, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है। यदि उपरोक्त लक्षण अधिक दिनों तक बने रहते हैं, तो बिना घरेलू उपचार के डॉक्टर से परामर्श करना आवश्यक है।

कोरोना वायरस का प्रकोप दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। इसलिए नागरिकों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। हालांकि, कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर घबराना उचित नहीं है। 

गले में खराश
गले में खराश

More Reading

Post navigation

Leave a Reply

error: Content is protected !!