Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

जानिए लहसुन के प्रभावशाली गुणों के बारे मे

लहसुन में मीठे, नमकीन, कसैले, कड़वे और लाल रंग के पांच स्वाद होते हैं। संस्कृत में इसे रसोन कहते हैं। रस + ऊन रस की कमी है। 

लहसुन के कुछ मुख्य उपयोग

  • खांसी से संबंधित बीमारियों के मामले में बच्चों के गले में लहसुन की छड़ें डाल दी जाती हैं।

  • गठिया जैसे आमवाती रोगों के इलाज के लिए लहसुन के पेस्ट का उपयोग किया जाता है।

  • पसलियों में दर्द हो तो लहसुन का रस मलें।

  • लहसुन के रस को नियमित रूप से मलने से दाद जैसे खुजली वाले चर्म रोग ठीक हो जाते हैं।

  • अगर कीड़े के काटने से दर्द और खुजली होती है तो लहसुन का रस मलें।

  • कान में दर्द हो तो लहसुन का रस कान में डालें और मीठा तेल छोड़ दें। वही तेल छाती पर मलने से खांसी होने पर भी सूखी खांसी ठीक हो जाती है।

  • भूख न लगना, मुंह का स्वाद खराब होना, अपच, पेट दर्द, कीड़े आदि रोगों में लहसुन का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।

  • अगर आप चावल खाने के बाद फूला हुआ महसूस करते हैं, तो पके हुए चावल को लहसुन के साथ मिलाएं।

  • लहसुन हृदय की उत्तेजना को कम करके हृदय की सूजन को कम करता है।

  • लहसुन डालकर उबा लकर दूध पिलाने से पुरानी खांसी, दमा और क्षय रोग नष्ट हो जाता है।

  • जब हड्डियां टूट जाएं तो इसमें लहसुन के साथ उबला हुआ दूध मिलाएं और हड्डियां जल्दी ठीक हो जाती हैं।

  • लहसुन में प्राकृतिक रूप से सल्फर होता है। अगर कच्चा लहसुन खाया जाए तो उसमें से सल्फर निकलने से त्वचा से पसीना निकलता है। यह सड़ते कुष्ठ रोग में विशेष रूप से लाभकारी होता है।

  • लहसुन को बुखार की दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। लहसुन पुरानी गर्मी या सर्दी से अच्छी राहत देता है।
जानिए लहसुन के प्रभावशाली गुणों के बारे मे

सिरदर्द से राहत पाने के कुछ घरेलू उपाय

error: Content is protected !!