Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

विभिन्न बिमारियों के लिए घरेलू उपचार

विभिन्न बिमारियों के लिए घरेलू उपचार

आज हम जानेगे कुछ विभिन्न प्रकार की बिमारियों के बारे में जिनका घरेलू उपचार बढ़ीही आसानी से किया जा सकता है।

बिमारियों के लिए कुछ सरल घरेलु उपचार

  • पेट दर्द
    अगर पेट या ऊपरी हिस्से में पेट में दर्द हो और अपच हो तो गर्म पानी में ओवा, दुकान, हींग, लिम्बुरस, सोडा, अदरक, लहसुन का प्रयोग कम से कम करना चाहिए। सॉसेज को गर्म पानी के बैग में बेक करें। अगर आपको पेट या पेट में दर्द है तो अरंडी के तेल की एक मजबूत खुराक या त्रिफला चूर्ण की एक मजबूत खुराक लें जिससे गंभीर दस्त हो सकते हैं।

  • सूजन
    हींग, हींग का पेस्ट, सोडा, ओवा, अदरक, अदरक, पान, नींबू का रस और गर्म पानी का प्रयोग करें। अरंडी का तेल पेट या पेट पर लगाएं या मलें। गर्म पानी की थैली में बेक करें।

  • रक्तचाप बढ़ा
    अगर ब्लड प्रेशर बढ़ रहा है तो सांस लेते हुए पूरी तरह आराम से सोएं। जितना हो सके पीठ और सिर को जमीन पर रखकर सोएं, सभी मांसपेशियों को ढीला करें, नमक, चीनी और जड़ना से परहेज करें, बेला के पत्ते का रस या अर्क लें। दूधिया कद्दू, पड़वल, डोडका उबाल कर इतना खा लें कि आपका पेट भर जाए। गोखरू या शरबत को उबालकर पी लें।

  • कम रक्त दबाव
    कद्दू या गन्ने का जूस पिएं। दूध, चीनी, विभिन्न फल, गेहूं की भूसी जैसे पौष्टिक और मजबूत खाद्य पदार्थ खाएं। खूब घी डालें और चावल खाएं। अधिक नमकीन भोजन करें। जैसे पापड़, अचार आदि। पूर्ण विश्राम करें। पूरी नींद लें।

  • मान गर्दन दर्द
    तकिए और गद्दे से बचना चाहिए। तख़्त पर या कंबल, कंबल, चटाई, शॉल जैसे मोटे बिस्तर पर सोएं। मीठा तेल थोड़ा गर्म करें और उसमें थोड़ा सा नमक मिलाएं और उस तेल से धीरे-धीरे गर्दन की मालिश करें।सरसों या तिल के तेल का प्रयोग करना उत्तम रहता है।फिर इसे गर्म पानी की थैली में सेंक लें या गर्म तवे पर रख दें। निर्गुड़ी के पत्तों को मसलकर गर्दन पर लगाएं। निर्गुड़ी के पत्तों को पानी में उबालें और पानी को हिलाएं। लहसुन की तीन या चार कलियां खाएं। गर्म पानी में अदरक पाउडर मिलाकर पिएं।
विभिन्न बिमारियों के लिए घरेलू उपचार
विभिन्न बिमारियों के लिए घरेलू उपचार

More Reading

Post navigation

Leave a Reply

error: Content is protected !!