Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

स्किप्पिंग के फायदे

स्किप्पिंग के फायदे | स्किपिंग

स्किप्पिंग के फायदे | स्किपिंग | रस्सी कूदने के फायदे

स्किप्पिंग के फायदे बोहोत सारे है बल्कि यही व्यायाम आप अगर रोजाना १० मिनट भी करते हे तो आपके शरीर को बोहोत फायदा हो सकता है

यदि आपके पास वजन कम करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करने के लिए जिम जाने का समय नहीं है, तो घर पर रस्सी कूदना एक बढ़िया विकल्प हो सकता है। लगातार दस मिनट तक रस्सी पर कूदने से लगभग सौ कैलोरी की खपत होती है। इस एक्सरसाइज को आप घर पर, किसी पार्क में या फिर किसी खुली जगह पर कर सकते हैं। इसके लिए आपको एक अच्छी क्वालिटी की स्किपिंग रोप और स्पोर्ट्स शूज की जरूरत है जो आपको कंफर्टेबल फील कराए।

यह व्यायाम ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों के विकास के जोखिम को कम करता है, हड्डियों के नुकसान को कम करता है और हड्डियों को मजबूत करता है। दस मिनट स्किपिंग उतना ही फायदेमंद है जितना कि आधा घंटा जॉगिंग या पंद्रह मिनट दौड़ना।

स्किपिंग एक बहुत अच्छा एरोबिक व्यायाम है। इस तरह के व्यायाम से पूरे शरीर को भरपूर व्यायाम मिलता है। इस व्यायाम से वजन कम होता है और अंगों की मांसपेशियों की अच्छी टोनिंग होती है। नियमित व्यायाम न केवल शरीर के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करता है बल्कि मन की एकाग्रता को बढ़ाने में भी मदद करता है।

यह व्यायाम फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार करता है, फेफड़ों को मजबूत करता है और सहनशक्ति भी बढ़ाता है। यह दिल के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी मदद करता है।

स्किपिंग से हड्डियों का घनत्व बढ़ता है, साथ ही शरीर का मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है। साथ ही इस प्रकार का व्यायाम टांगों की मांसपेशियों, घुटनों और एड़ियों को मजबूत बनाने के लिए बहुत अच्छा होता है।

नियमित स्किपिंग आंख, हाथ और पैर की गतिविधियों के बेहतर समन्वय की अनुमति देता है। इस प्रकार का व्यायाम दिन में पंद्रह से बीस मिनट तक करना चाहिए। इससे ज्यादा देर तक रस्सी पर कूदने से घुटने में चोट लग सकती है।

रस्सी पर कूदते समय हाथों, पैरों और आंखों के बीच उचित तालमेल होना चाहिए। इसके लिए अंग आंदोलनों में ट्यूनिंग की आवश्यकता होती है। यदि आप पहली बार स्किपिंग कर रहे हैं, तो इसकी आदत पड़ने में कुछ समय लग सकता है।

इसलिए शुरुआत में केवल पचास से एक सौ दोहराव ही करने चाहिए। अभ्यास बढ़ने पर यह संख्या धीरे-धीरे बढ़ाई जानी चाहिए। साथ ही जब स्किपिंग समतल जमीन पर करनी चाहिए। उबड़-खाबड़ जमीन पर कूदने से जोड़ों पर दबाव पड़ सकता है।  

स्किप्पिंग के फायदे
स्किप्पिंग के फायदे
error: Content is protected !!