Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

नारियल

नारियल के फायदे – benefits of coconut

2 सितंबर 1969 को एशिया में नारियल के विकास के लिए एशियन एंड पैसिफिक कोकोनट एसोसिएशन का गठन किया गया था। भारत इस संगठन का संस्थापक सदस्य है। जकार्ता, इंडोनेशिया में मुख्यालय वाले एशियाई और प्रशांत कोकून (एपीसीसी) सालाना 2 सितंबर को दुनिया भर के नारियल उत्पादक देशों में विश्व नारियल दिवस के रूप में मनाते हैं।

भारत विश्व के अग्रणी नारियल उत्पादक देशों में से एक है। नारियल उत्पादन में भारत का विश्व में तीसरा स्थान है। भारत में 19.8 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में 2044 करोड़ नारियल का वार्षिक उत्पादन होता है। नारियल का योगदान रु. 20,000 करोड़। 2015-16 में, देश ने 1,450 करोड़ रुपये के नारियल उत्पादों का निर्यात किया।

भारत में लगभग एक करोड़ लोग अपनी आजीविका के लिए नारियल पर निर्भर हैं।नारियल क्षेत्र के लिए राष्ट्रीय नारियल बोर्ड (एनसीबी) द्वारा कौशल विकास कार्यक्रम ‘नारियल के पेड़ का मित्र’ और ‘नीरा तकनीशियन प्रशिक्षण कार्यक्रम’ लागू किया जा रहा है।

योजना के तहत 5,200 बेरोजगार युवकों और 2,800 नीरा तकनीशियनों को नारियल के पेड़ पर चढ़ने और पेड़ संरक्षण कार्य की देखभाल के लिए प्रशिक्षित किया गया है। नारियल कोंकण में 35,000 हेक्टेयर क्षेत्र में उगाया जाता है। इससे उगाई जाने वाली नब्बे प्रतिशत फसलों का उपयोग नारियल और टहनियों के रूप में किया जाता है।

नारियल को कल्पवृक्ष कहते हैं। क्योंकि नारियल के पेड़ का हर हिस्सा उपयोगी चीजें पैदा कर सकता है। लेकिन कल्पवृक्ष की अवधारणा अप्रचलित होती जा रही है। पौधे और नारियल की बिक्री के अलावा, इस फसल का व्यापक रूप से उपयोग नहीं किया जाता है।

नारियल और नारियल के डंठल भी फेंके जाते हैं। नारियल के अन्य भागों का उपयोग कर माल के उत्पादन की दर नगण्य है। चौंकाने वाली बात यह है कि कोंकण में अभी तक कोई बड़ा नारियल प्रसंस्करण उद्योग शुरू नहीं हुआ है।

नारियल के प्रसंस्करण से कई तरह के उत्पाद तैयार किए जा सकते हैं। नारियल के चारकोल की छड़ें संसाधित त्यागे हुए कैरवे और गहने, शर्ट बटन, गहने, चुल और तंदूर में जलाने के लिए चोड़ा से बनाई जा सकती हैं।

नर्सरी और बागवानी उद्योग के लिए कोक बनाया जा सकता है। जो मिट्टी की नमी बनाए रखने के लिए बेहद उपयोगी है। खेत में नारियल का प्रसंस्करण करके उच्च गुणवत्ता वाला तेल बनाया जा सकता है। सौंदर्य प्रसाधन उद्योग में इस तेल की बहुत मांग है।

नारियल के फायदे – benefits of coconut

  • नारियल पानी में फैट कम होता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व आपकी भूख को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। तो आपका भोजन नियंत्रित रहता है।

  • अगर आपको पाचन की शिकायत है तो नारियल पानी पीने के बाद दूर हो जाता है। नारियल पानी शरीर को पोषक तत्व प्रदान करता है। पानी कुछ अवांछित तत्वों को रोकने में भी मदद करता है।

  • बाजार में पानी बड़ी मात्रा में बिकता है। 100% नारियल पानी हमेशा इस पानी से बेहतर होता है। नारियल पानी में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं जिनकी शरीर को जरूरत होती है। इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम और सोडियम का उच्चतम स्तर है।  

  • त्वचा की रंगत निखारने के लिए नारियल पानी बहुत फायदेमंद होता है। यह किसी दवा से कम नहीं है। यह पानी चेहरे के दाग-धब्बों को दूर करने का काम करता है। नारियल पानी त्वचा को हाइड्रेट और मॉइस्चराइज करता है। नारियल पानी शरीर में नई ऊर्जा पैदा करने में मदद करता है। सिर में दर्द हो तो नारियल पानी पिएं।
नारियल
नारियल
error: Content is protected !!