Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

केले कितने जरूरी है और कैसे

केले कितने जरूरी है और कैसे- How important are bananas and how

महिलाएं थकान और तनाव से पीड़ित रहती हैं। वे अपने नियमित भोजन में केले को शामिल करना चाहती हैं। पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण महिलाएं अपने स्वास्थ्य की पूरी तरह उपेक्षा करती हैं। हालांकि, पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य का अधिक ध्यान रखने की आवश्यकता है। महिलाओं को हर महीने मासिक धर्म चक्र से गुजरना पड़ता है।

इसके अलावा गर्भावस्था का असर महिला के शरीर पर भी पड़ता है। इसलिए उन्हें बेहतर डाइट की जरूरत होती है। अगर महिलाएं रोजाना 1 केला खाती हैं तो उन्हें कई समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है। थकान, कमजोरी और तनाव के लिए केला रामबाण है।केले एक इंस्टेंट एनर्जी बूस्टर है। इसलिए इसे संपूर्ण आहार माना जाता है।

केले खाने से शरीर में ग्लूकोज का स्तर बढ़ता है और आप तुरंत ऊर्जावान महसूस करते हैं। अगर महिलाएं सुबह केला खाती हैं तो वे पूरे दिन ऊर्जावान महसूस करती हैं। इससे शरीर को पोषक तत्व मिलते हैं।तनाव का स्तर नियंत्रित रहता है

केले में पोटैशियम होता है। तो यह तनाव को कम करता है।पोटेशियम हमारे शरीर में तनाव हार्मोन यानी कोर्टिसोल को नियंत्रित करता है। इससे आप जब भी तनाव महसूस करते हैं तो केला खा लेते हैं। केले में कार्बोहाइड्रेट, पोटेशियम, विटामिन बी6, प्री-बायोटिक फाइबर और मैग्नीशियम होता है। जो न सिर्फ ब्लड शुगर को कंट्रोल करता है बल्कि मूड को भी बेहतर बनाता है।

केले के कुछ फायदे – some benefits of banana

गर्भावस्था के दौरान महत्वपूर्ण
गर्भवती महिलाओं को रोजाना 1 केला खाना चाहिए। इसमें फोलिक एसिड होता है। जिससे नई कोशिकाओं का निर्माण होता है। इसके अलावा, भ्रूण की वृद्धि अच्छी होती है। बच्चे में गर्भपात का डर नहीं रहता है।

एनीमिया को कम करता है
महिलाओं में एनीमिया अधिक आम है। एनीमिया में प्रतिदिन 1 केला खाने से लाभ होता है। रक्त उत्पादन को उत्तेजित करना

जिन महिलाओं को माइग्रेन या सिरदर्द की शिकायत रहती है उन्हें केला खाना चाहिए। खेल मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं। जो सिरदर्द को कम करता है। महिलाओं को सिरदर्द होने पर केला जरूर खाना चाहिए।प्रमोद पाठक।बरोदे।  

 त्रिफला प्रथम वर्ष में हमारे शरीर में आलस्य और आलस्य को दूर करता है। दूसरे वर्ष में जातक हर प्रकार से रोगमुक्त हो जाता है। तीसरे वर्ष में आंखों की रोशनी बढ़ने लगती है। चौथे वर्ष में शरीर की शोभा बढ़ने लगती है। शरीर दीप्तिमान और ऊर्जावान दिखता है। पंचम वर्ष में बुद्धि का विशेष विकास होता है। छठे वर्ष में शरीर बलवान था। सातवें साल तक बाल काले होने लगते हैं।

आठ साल की उम्र में शरीर की बुढ़ापा यौवन में बदलने लगती है। नवम वर्ष में व्यक्ति की आंखों की रोशनी विशेष रूप से समृद्ध हो जाती है। दस साल की उम्र में व्यक्ति का गला फूलने लगता है। ग्यारहवें और बारहवें वर्ष में व्यक्ति पढ़ने की उपलब्धि प्राप्त करता है।  

केले कितने जरूरी है और कैसे
केले कितने जरूरी है और कैसे
error: Content is protected !!