Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

Ayurvedic Upchar Hindi Mai

11 Ayurvedic Upchar Hindi Mai

11 Ayurvedic Upchar Hindi Mai | 11 आयुर्वेदिक उपचार

11 Ayurvedic upchar hindi mai for the most common diseases, such as Cough, Fever, TB, Asthama Breathing and so on are available here.

सबसे आम बीमारियों जैसे खांसी, बुखार, टीबी, अस्थमा श्वास आदि के लिए 11 आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में यहां उपलब्ध हैं

1 यदि आपको कफ के साथ खांसी है – कफ केयर सिरप सिरप वासा, वासवलेह, वासवरिष्ट, खादीरादि वटी, मारीचदि वटी, लवंगदि वटी, त्रिकुट चूर्ण, द्राक्षरिष्ट, एलादि वटी, कालीसादि चूर्ण, कफसेतु रस, अभ्रक राख।

2 तेज बुखार या मलेरिया होने पर – महासुदर्शन चूर्ण, महासुदर्शन अर्क, अमृतारिष्ट, ज्वर का रस, सत्वागिलॉय, विषम लौह औषधियां बहुत कारगर हैं।

3 इन्फ्लुएंजा या बुखार होने पर – त्रिभुवन कीर्तिरस, लक्ष्मी विलास रस, संजीवनी वटी, पिंपल 64 प्रहरी और अमृतारिष्ट का सेवन कर सकते हैं। इससे आपको बुखार से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी।

4 टीबी या टीबी के मामले में – गोल्डन वसंत मालती, लक्ष्मी विलास रस, मृगंक रस, वृहत श्रृंगारभरा रस, राजमृगंकर, वसावलेह द्राक्षसव, च्यवनप्राश अवलेह, महालक्ष्मी विलास रस लाभकारी हैं।

५ अस्थमा या श्वसन रोगों में – खांसी की देखभाल, च्यवनप्राश अवलेह, सितोपलादि चूर्ण, शवासक, चिंतामणि कणकशव, सरबत वासा, वासरिष्ट, वसावलेह, मयूर चंद्रिका भस्म, मीका भस्म तेल आदि लाभकारी रहेंगे।

6 सिर दर्द, बेचैनी और प्यास – अगर आप गर्मी और मन की समस्याओं के साथ-साथ सिर दर्द, बेचैनी और प्यास से परेशान हैं तो दिल और दिमाग को शांत करने के लिए ऊर्जा देने वाली यह आयुर्वेदिक दवा आपके लिए फायदेमंद है – गुलकंद मूंगा, मोती चूर्ण, खमीर चंदन, सिरप चंदन, सिरप अनार, आप इसका सेवन हर मौसम में कर सकते हैं।

७ एक्जिमा होने पर – चर्म रोग मलहम, गुडूच्यादि तेल, रास माणिक्य, महामरीचडी तेल, सल्फर रसायन, त्रिफला चूर्ण, पुष्पांजन, रक्त जांच, खादीरादिष्ट, महामंजिष्ठादि अर्क आदि लें।

८ त्वचा रोग या रक्ताल्पता के मामले में – रक्त संसूचक, खादीराष्टी, महामंजिष्ठादि अर्क, सरिवाद्यसव, महामरीचडी तेल, रोगन नीम, सल्फर रसायन, केसर गूगल, आरोग्यवर्धनी, जत्यादि तेल, त्वचाविज्ञान मरहम, पुष्पांजलि आदि का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।

९ बालों के रोग होने पर – महाभृंगराज तेल, हाथी दांत, च्यवनप्राश अवलेह, भृंगराजसव बालों का झड़ना और सफेद बालों की समस्या को कम करने में लाभकारी होता है।

१० फेफड़ों में पानी भरने के बाद – नारदिया लक्ष्मी विलास रस, स्वर्ण वसंत मालती, मृगश्रुंग भस्म, रस शेंदूर का सेवन किया जा सकता है।

११ यदि आपको कोढ़ या सफेद धब्बे हैं – सोगन बावची, खादीरादिष्ट, आरोग्यवर्धिनी वटी, रास माणिक्य, सल्फर रसायन, चालमोगरा तेल, महामंजिष्ठादि का काढ़ा लाभकारी होता है।  

Ayurvedic Upchar Hindi Mai
Ayurvedic Upchar Hindi Mai

More Reading

Post navigation

Leave a Reply

error: Content is protected !!