Gharelu Upay - घरेलु उपाय

Gharelu Upay Upchar aur Nuskhe

पित्त के कारण और घरेलू उपचार

पित्त के कारण और घरेलू उपचार – causes and home remedies of Bile

मसालेदार भोजन, अस्वास्थ्यकर जीवनशैली, तनाव, नींद पूरी न होने के कारण कई स्वास्थ्य समस्याओं के साथ-साथ पित्त की समस्या भी हो गई है। पित्त के कारण एसिडिटी, सिरदर्द, पित्त पथरी जैसी कई शिकायतें होती हैं।

पित्त बढ़ने के कारण – dues of increased bile

मसालेदार, मसालेदार, खट्टा, नमकीन भोजन, मांस, अचार, पापड़, किण्वित खाद्य पदार्थ जैसे खट्टा दही, छाछ, इडली, डोसा, ब्रेड आदि का बार-बार सेवन। बार-बार चाय, कॉफी, कोल्ड ड्रिंक पीना, उपवास की आदत के कारण, भोजन के समय का पालन न करना, लंबे समय तक उपवास करना, तंबाकू, सिगरेट, गुटखा, शराब, जैसे व्यसनों तनाव, क्रोध, दर्द निवारक दवाएँ लेने से बार-बार होने वाला सिरदर्द, सम्मोहन मुख्य रूप से पित्त के कारण होता है।

पित्त से क्या समस्या होती है..? – What is the problem with bile?

पित्त कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है। इसमें, पेट की गैस, पित्त के कारण खट्टी डकारें आना, मतली उल्टी,  छाती और पेट की सूजन, अल्सर, पित्त सिरदर्द, माइग्रेन (माइग्रेन सिरदर्द), आंखों की जलन सूजन, पित्त सबसे आम शिकायतों में से एक है।

पित्त कम करने के लिए क्या करें..? – What to do to reduce bile..?

हैजा खराब आहार और अस्वास्थ्यकर जीवनशैली के कारण हो सकता है। इसके लिए स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का मतलब है सही खाना, नियमित व्यायाम करना, पर्याप्त नींद लेना, तनाव और व्यसनों से दूर रहना न केवल पित्त को कम करेगा बल्कि आपको स्वस्थ रहने में भी मदद करेगा। हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं।

आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, फल और सब्जियां होनी चाहिए। तरह-तरह के फल खाएं। यह फाइबर, विटामिन और खनिजों में समृद्ध है। फाइबर नियमित रूप से पेट को साफ करता है और पित्त को कम करता है। आहार में अदरक, वेलाडोड, काली मिर्च, किशमिश, केला, जीरा, आंवला शामिल करना चाहिए।

पित्त कम करने के घरेलु उपाय – home remedies to reduce bile

  • उचित आहार लें। आहार में हरी पत्तेदार सब्जियों और फलों को शामिल करना चाहिए।
  • तेल, मसालेदार, खट्टा, मसालेदार भोजन से बचें।
  • बार-बार चाय-कॉफी पीने से बचें।
  • पर्याप्त पानी का अर्थ है एक दिन में लगभग आठ से दस गिलास पानी पीना।
  • पेट की रोजाना सफाई करने से पित्त कम करने में मदद मिलती है। पेट को साफ रखने का ध्यान रखना चाहिए।
  • करावे नियमित व्यायाम और योग करें।
  • क्रोध-चिंता-देखभाल पर नियंत्रण रखें। तनाव मत करो।
  • जागने से बचें, दिन में न सोएं।
  • धूम्रपान और शराब की लत से दूर रहें।
  • बार-बार होने वाले सिरदर्द और दर्द निवारक दवाओं से बचें। ऐसी देखभाल से पित्त विकारों से बचा जा सकता है।
पित्त के कारण और घरेलू उपचार
पित्त के कारण और घरेलू उपचार
error: Content is protected !!